Skip to main content

Selection of Breeding Gilts & Boars (In Pig farming)

Selection of Breeding Gilts (In Pig farming)

It is extremely important to select a good gilts since it contributes half the quality of the herd. Areas to be consider while selecting breeding gilts : 


  1. Gilts selected to have at least 12 tits so as to accommodate a large litter.
  2. Gilts to be elected from sows, which wean 9-10 or more piglets per litter and are known to be good mothers and first farrowing at one year of age and farrowing interval of seven months.
  3. Select Breeding gilts at weaning period, further selection should be done 5 - 6 months of age.
  4.  Select fast growing weaners. These will likely consume less feed per unit live weight again. Thus less costly to keep.
  5. Select gilts which have developed hams and comparatively light heads.
  6. The selected gilts should have good body confirmation i.e. strong legs, sound feet etc.
  7. Gilts should not select for breeding purpose having supernumerary and inverted tits, and fat deposited at the base of the tits.
  8. Gilts must be at least 8 months old at first service.

Selection of Breeding Boar:

It is extremely important to select a good boar since it contributes half the quality of the herd. Areas to be consider while selecting breeding Boar :

  1. Boar to have sound feet with good full hams, uniform curve at the back and of good length.   
  2. Boar to have it at least 12 nicely placed rudimentary tits so as to pass on this characteristic.
  3. Boar to be selected from sows,which wean 8-10 or more piglets per litter and are known to be good mothers .
  4. Boar to be selected from the herd which is having normal sex organs, active, healthy and strong.
  5. Selection to be done before castration  i.e. at 4 weeks .select biggest from the litter.
  6. Boar must be at least 8 months old at first service.

If anyone want to ask anything regarding this same can write to us at gauragro@gmail.com / Mob. No. 09761491000.
Any query is welcome.

Regards

GAUR AGRO
BULANDSHAHR (UP)






Comments

Popular posts from this blog

HOW TO START PIG FARM IN INDIA

Hello Guys, We "Gaur Agro Farm" from Distt. Bulandshahr (Uttar Pradesh). We are running a pig farm in Distt. Bulandshahr with scientific infrastructure and trained workmen. We had started our pig farm in 2012 . Presently We are totally satisfied with our business and profitability after 2 year's struggle in pig farming :) If you are planing to start your pig farm then We must say you are on right track for your success but you have to understand no success comes without struggle and hardworking. Most of the people think that pig farming is very easy task and this is part time business but that type of thinking is the main cause for the failure of pig farm. This blog is for 2 unit (20 females + 03 Males) live stock. Few points which are as under are useful in starting of your pig farm. 1. You have your own land. (Farming/Agriculture Land) 2. Shade for the animals. 3. Electricity connection. 4. Availability of fresh water. (Submer Sirbal) 5. Wastage area f

फीड सस्ती और ग्रोथ जबरदस्त

कैसे करें अपने पिग्स की अच्छी ग्रोथ  दोस्तों ,  आजकल देखा जा रहा है कि जितनी सफलता पिग फार्मर्स को मिलनी चाहिए उतनी सफलता किसानो को नहीं मिल पा रही है जिसके कई कारण हैं जैसे कि ... सही फीड फार्मूला का न मिल पाना।  फीड कंपनियां फीड की कीमत को लगातार बढ़ाते जा रही हैं और जो मुनाफा किसान को होना चाहिए उसका लगभग आधा या उससे अधिक मुनाफा फीड कम्पनियो की जेब में चला जाता है।  फेटनिंग के जानवरों को ब्रोकर सही कीमतों पर नहीं खरीदते , आज के समय में (जनवरी 2020) में जब फेटनिंग के जानवरो की कीमत 120 रु प्रति किलोग्राम (जीवित) है तब भी अधिकतम ब्रोकर / ट्रेडर ऐसे हैं जो ड्राई फीड बेस्ड जानवरो की कीमत 105 रु प्रति किलोग्राम से शुरू करते हैं।  जानवरों को सही तरीके से रखरखाव की व्यवस्था का न होना।    पिग फार्मर्स में एकता न होना।  परेशान किसान  स्वस्थ जानवर  अब आते हैं आज के मुद्दे पर , कि सही मुनाफा लेने के लिए किस तरह की व्यवस्था करी जाय जिससे सही समय में सही ग्रोथ हो और फीड की कीमत भी अनाप शनाप तरीके से न बढे। अच्छी बढ़वार के लिए पिग फीड में संतुलित मात्रा में सोया खली जरू

All Type of Pig Feed Formula

प्रिय किसान भाइयो, जब आप रेडीमेड फीड बाहर से किसी डिस्ट्रीब्यूटर से लेते हैं तो कम से कम 1रु प्रति किलो का प्रॉफिट तो डिस्ट्रीब्यूटर रखता है और कम से कम 2 रु प्रति किलोग्राम का प्रॉफिट कंपनी भी रखती है और इसमें डिस्ट्रीब्यूटर तक फीड पहुचने का किराया भी कम से कम 1 रु प्रति किलोग्राम तो आता ही होगा , फिर उसके बाद आप भी कुछ किराया खर्च करते ही होंगे । अतः ..... अब किसी भी तरह की रेडीमेड पिग फीड लेने की जरुरत नहीं, आपका पैसा कीमती है, इसे बचायें। जितना एक्सट्रा पैसा फीड कम्पनियो को देते हैं , गरीबों में दान कर दें सुकून मिलेगा।  :) आजकल सबसे ज्यादा समस्या सूकर पालको को फीड की होती है , क्यूंकि सही और वैज्ञानिक आधार पर पिग फीड बनाना बहुत से किसान भाइयो को नहीं आता है और पुराने सफल पिग फार्मर अपनी फार्मूलेशन नहीं देते हैं। आज इसी समस्या को ख़त्म करने के लिए मैंने यहाँ पिग फीड बनाने के कई फॉर्मूले बताये हैं ,आप भी अब किसी रेडीमेड फीड कम्पनी को अपने हिस्से की प्रॉफिट के पैसे को देने से बच सकते हैं। ड्राई फीड  पिग फीड हमारे हिसाब से चार तरह की होती है। ब्रीडर फीड  ( बच्चे देने वाल